Wednesday, 9 July 2014

रविकर मत कर होड़, मचेगी अफरा-तफरी

फ़री फ़री मारा किये, किया किये तफ़रीह । 
-परजीवी पीते रहे, दारु-रक्त पय-पीह। 

दारु-रक्त पय-पीह, नहीं चिंता कुदरत की। 
केवल भोग विलास, आत्मा भटकी भटकी । 

आगे अन्धा-मोड़, गली सँकरी अति सँकरी । 
रविकर मत कर होड़, मचेगी अफरा-तफरी ॥ 

11 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा आज गुरूवार (10-07-2014) को 'उम्मीदें और असलियत { चर्चा - 1670 } पर भी है !
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    ReplyDelete
  2. आदरणीय नमस्ते,
    सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  3. अफरा-तफरी तो मची हुई है..

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  6. सुन्दर प्रस्तुति ..न जाने कब इस अंधे मोड़ से मुक्ति मिल पायेगी
    जय श्री राधे
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete