Tuesday, 28 June 2016

बाढ़ की विभीषिका -

खानापूरी हो चुकी, बेशर्मी भी झेंप । 
खेप गए नेता सकल, भेज  रसद की खेप। 

भेज रसद की खेप, अफसरों की बन आई । 
देखी भूख फरेब, डूब कर जान बचाई। 

पानी पी पी मौत, उठा दुनिया से दाना ।
बादल-दल को न्यौत, चले जाते मयखाना ॥

3 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 30-06-2016 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2389 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (01-07-2016) को "आदमी का चमत्कार" (चर्चा अंक-2390) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete