Follow by Email

Monday, 25 July 2016

रखे परस्पर ख्याल, नजर फिर कौन लगाता

जल के जल रक्षा करे, जले नहीं तब दुग्ध।
गिरे अग्नि पर उबलकर, दुग्ध कर रहा मुग्ध।
दुग्ध कर रहा मुग्ध, मूल्य जल का बढ़ जाता।
रखे परस्पर ख्याल, नजर फिर कौन लगाता।
आई बीच खटास, दूध फट जाय उबल के।
जल भी मिटता जाय, आग पर रविकर जल के।।

1 comment: