Follow by Email

Monday, 18 July 2016

नीति-नियम-आदर्श, हवा के ताजे झोंके

प्रश्नों के उत्तर कठिन, नहीं आ रहे याद |

स्वार्थ-सिद्ध मद-मोह-सुख, भोगवाद-उन्माद |

भोगवाद-उन्माद , नशे में बहके बहके |

लेते रहते स्वाद, अनैतिक चीजें गहके |

नीति-नियम-आदर्श, हवा के ताजे झोंके |

चौथेपन में आज, लिखूँ उत्तर प्रश्नों के ||

2 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल गुरूवार (21-07-2016) को "खिलता सुमन गुलाब" (चर्चा अंक-2410) पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete