Follow by Email

Friday, 25 January 2013

मर्यादा पुरुषोत्तम राम की सगी बहन : भगवती शांता -1


दिनेश चन्द्र गुप्ता ,रविकर
वरिष्ठ तकनीकी सहायक
इंडियन स्कूल ऑफ़ माइंस
धनबाद झारखण्ड

पिता:  स्व. सेठ लल्लूराम जी गुप्ता
माता : स्व. मुन्नी देवी

धर्म-पत्नी : श्रीमती सीमा गुप्ता
सुपुत्र : कुमार शिवा ( सहायक प्रबंधक , TCIL,  नई  दिल्ली  )
सुपुत्री : 1. मनु गुप्ता (ASE, TCS लखनऊ )
2. स्वस्ति-मेधा ( B Tech केमिकल इंजी )
(ग्रीन वैली -शिमला -कुफरी )
जन्म स्थान : पटरंगा मंडी  जिला फैजाबाद  उत्तर प्रदेश
जन्म तिथि : 15 अगस्त 1960

   

 कुंडली 
रविकर नीमर नीमटर, वन्दे हनुमत नाँह ।
विषद विषय पर थामती, कलम वापुरी बाँह ।
 
कलम वापुरी बाँह, राह दिखलाओ स्वामी ।

शांता का दृष्टांत, मिले नहिं अन्तर्यामी ।
 
बहन राम की श्रेष्ठ, उपेक्षित त्रेता द्वापर ।
रचवा दो शुभ-काव्य, क्षमा मांगे अघ-रविकर ।

( नीमटर=किसी विद्या को कम जानने वाला 
नीमर=कमजोर ) 
सर्ग-1
भाग-1 
अयोध्या  
Om
सोरठा 

वन्दऊँ पूज्य गणेश, एकदंत हे गजबदन  |
जय-जय जय विघ्नेश, पूर्ण कथा कर पावनी ||1||

http://2.bp.blogspot.com/_OCu_uIvUaLs/TUe7KnZeMlI/AAAAAAAAFO0/tkFtiEC1-zE/s1600/shree-ganesh.jpg

वन्दौं गुरुवर श्रेष्ठ, कृपा पाय के मूढ़-मति,
गुन-गँवार ठठ-ठेठ, काव्य-साधना में रमा ||2||

गोधन-गोठ प्रणाम, कल्प-वृक्ष गौ-नंदिनी |
गोकुल चारो धाम, गोवर्धन-गिरि पूजता ||3||

वेद-काल का साथ, गंगा सिन्धु सरस्वती |
ईरानी हेराथ, है सरयू समकालिनी ||4||

राम-भक्त हनुमान,  सदा विराजे अवधपुर |
सरयू होय नहान, मोक्ष मिले अघकृत तरे ||5||

 करनाली का स्रोत्र, मानसरोवर अति-निकट |
करते जप-तप होत्र, महामनस्वी विचरते ||6||

क्रियाशक्ति भरपूर, पावन भू की वन्दना |
राम भक्ति में चूर, मोक्ष प्राप्त कर लो यहाँ ||7||

सरयू अवध प्रदेश, दक्षिण दिश में बस रहा |
हरि-हर ब्रह्म सँदेश, स्वर्ग सरीखा दिव्यतम ||8||

पूज्य अयुध  भूपाल, रामचंद्र के पित्र-गण |
गए नींव थे डाल, बसी अयोध्या पावनी ।। 9।।

दोहा 

शुक्ल पक्ष की तिथि नवम, पावन कातिक मास |
होय नगर की परिक्रमा, मन श्रद्धा-विश्वास ||

मर्यादा आदर्श गुण, अपने हृदय उतार |
राम-लखन के सामने, लम्बी लगे कतार |।

  पुरुषोत्तम सरयू उतर, होते अंतर्ध्यान |
त्रेता युग का अवध तब, हुआ पूर्ण वीरान |।

 सद्प्रयास कुश ने किया, बसी अयोध्या वाह |
 सदगृहस्थ वापस चले, पुन: अवध की राह |।

 कृष्ण रुक्मणी अवध में, आये द्वापर काल |
पुरुषोत्तम के चरण में, गये सुमन शुभ डाल ||

कलयुग में सँवरी पुन:, नगरी अवध महान |
वीर विक्रमादित्य से, बढ़ी नगर की शान ||

देवालय फिर से बने, बने सरोवर कूप |
स्वर्ग सरीखा सज रहा, अवध नगर का रूप ||


सोरठा  


माया मथुरा साथ, काशी काँची द्वारिका |
महामोक्ष का पाथ, अवंतिका शुभ अवधपुर ||10||

अंतरभूमि  प्रवाह, सरयू सरसर वायु सी
संगम तट निर्वाह,  पूज घाघरा शारदा ||11||

पुरखों का इत वास, तीन कोस बस दूर है |
बचपन में ली साँस, यहीं किनारे खेलता ||12||

परिकरमा श्री धाम, हर फागुन में हो रहा ।
पटरंगा मम-ग्राम, चौरासी कोसी  परिधि ||13||

थे दशरथ महराज, उन्तालिस निज वंश के |
रथ दुर्लभ अंदाज, दशों दिशा में हांक लें ||14||

पिता-श्रेष्ठ 'अज' भूप, असमय स्वर्ग सिधारते |
 निकृष्ट कथा कुरूप, मातु-पिता चेतो सुजन  ||15||
निवेदन : 
आदरणीय ! आदरेया  !!
मात्राओं को सुधारने में सहयोग करें ।
अपार कृपा होगी ।। 

12 comments:

  1. सपरिवार सैर अच्छी बात है।
    मालिक सबको देर तक साथ बनाए रखे,
    आमीन !

    ReplyDelete
  2. अनूठे, दुर्लभ ग्रंथ की रचना के लिए अग्रिम बधाई स्वीकार करें कविवर।

    ReplyDelete
  3. गुप्ता जी प्रणाम ---परिचय और परिभ्रमण साथ -साथ | बधाई

    ReplyDelete
  4. देश के 64वें गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    --
    आपकी पोस्ट के लिंक की चर्चा कल रविवार (27-01-2013) के चर्चा मंच-1137 (सोन चिरैया अब कहाँ है…?) पर भी होगी!
    सूचनार्थ... सादर!

    ReplyDelete
  5. आदरणीय क्षमा याचना सहित, मेरे विचार से मात्रा की गणना इस प्रकार होनी चाहिए फिर भी किसी विज्ञ से परामर्श अवश्य प्राप्त कर लें -

    वन्दऊँ गुरुवर श्रेष्ठ=12, रामचंद्र के पूर्वज=12,काशी कांची अवंतिका=14,परिक्रमा श्री धाम=10,होय सदा हर फाल्गुन=12,

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय आभार -
      ये हुई न बात-
      ठीक कर रहा हूँ-
      आगे भी आपका सहयोग मिलता रहे-
      थोडा थोडा भाग ही पोस्ट करूँगा -
      सादर -

      Delete
    2. सुझाये गए संशोधन कर दिए हैं-
      बहुत बहुत आभार-
      एक बार पुन: देख ले,
      सादर ||

      Delete
  6. परिचय और पुरे परिवार का फोटो साथ में,बहुत ही अच्छा लगा।सोरठा भी बहुत ही सार्थक है।

    ReplyDelete
  7. वाह! जम रहे हैं जनाब
    दाढी़ और मूँछ के साथ !

    ReplyDelete
  8. बहन शांता श्रेष्ठ @ मेरी गणना के अनुसार 10 मात्रा हो रही है

    ReplyDelete
  9. सर जी, बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति ,"जिन्दगी उलझ कर रह गई है B स न ल के जाल में ,क्या लिखे टिप्पड़ी कोई ,बीएसएनएल के जंजाल में ......" .

    ReplyDelete