Follow by Email

Friday, 10 August 2012

बेहतर रखो सँभाल, स्वयं से प्रिये लाज को-

 File:Bulbul 2.JPGFile:Brown-eared Bulbul 1.jpg

चुलबुल बुलबुल ढुलमुला, घुलमिल चीं चीं चोंच |
बाज बाज आवे नहीं, हलकट निश्चर पोच |

हलकट निश्चर पोच, सोच के कहता रविकर |
तन-मन मार खरोंच, नोच कर हालत बदतर |

कर जी का जंजाल, सुधारे कौन बाज को |
बेहतर रखो सँभाल, स्वयं से प्रिये लाज को ||
File:Accipiter gentilis -injured Goshawk.jpg 
File:Nubianvulture.jpeg

तरह तरह के प्रेम हैं, अपना अपना राग-

तरह तरह के प्रेम हैं, अपना अपना राग |
मन का कोमल भाव है, जैसे जाये जाग |

जैसे जाये जाग, वस्तु वस्तुत: नदारद |
पर बाकी सहभाग, पार कर जाए सरहद |

जड़ चेतन अवलोक, कहीं आलौकिक पावें |
लुटा रहे अविराम, लूट जैसे मन भावे |

13 comments:

  1. रचना के साथ चित्र भी बढ़िया.....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (12-08-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर !
    चोंच से नोंच कर दी एक खरोंच !
    गजब !!

    ReplyDelete
  4. जन्माष्टमी के मौके पर सबको शुभकामनाएं.

    आपका हार्दिक स्वागत है.

    सुन्दर और उपयोगी लिंक्स का चयन वाक़ई काबिले तारीफ़ है.

    ReplyDelete
  5. चोंच नुकीली तीक्ष्ण हैं ,पंजे के नाखून
    जो भी आये सामने , कर दे खूनाखून
    कर दे खूनाखून , बाज है बड़ा शिकारी
    गौरैया खरगोश ,कभी बुलबुल की बारी
    सबकी चोंच है मौन,व्यवस्था ढीली-ढीली
    चोंच लड़ाये कौन,बाज की चोंच की नुकीली ||

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छे चित्र और रचना भी बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  8. तरह तरह के प्रेम हैं सबका अपना भाव ,
    चेत सके तो चेत ले ,न चेते निर्भाव
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति सभी टिप्पणियाँ .

    ReplyDelete
  9. क्या ये चित्र आपने खींचे हैं?

    ReplyDelete
  10. अलग-अलग सबके यहाँ, प्रेम-प्रीत के ढंग।
    फैले हैं संसार में, सभी तरह के रंग।।

    ReplyDelete