Follow by Email

Tuesday, 21 August 2012

भ्रूणध्नी माता-पिता, देते मुझको फेंक -

जीवमातृका  वन्दना, माता  के  सम पाल |
करे जीवमंदिर सुगढ़, पोसे सदा संभाल ||
http://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/6/61/Stone_sculpt_NMND_-20.JPG 
शिव और जीवमातृका

धनदा  नन्दा   मंगला,   मातु   कुमारी  रूप |
बिमला पद्मा वला सी, महिमा अमिट-अनूप ||
https://lh3.googleusercontent.com/-ks78KCkMJR4/Tj_QMkR5FTI/AAAAAAAAAPI/PFy_h6xRHYY/bhrun-hatya_417408824.jpg 
भ्रूण-हत्या
कोई तो रक्षा करो, माताओं से  एक |
भ्रूणध्नी माता-पिता,  देते मुझको फेंक ||
http://aditikailash.jagranjunction.com/files/2010/06/bhrun-hatya.jpg 
भ्रूण-हत्या 
कुन्ती   तारा   द्रौपदी,  लेशमात्र   न   रंच |
आहिल्या-मन्दोदरी , मिटती कन्या-पन्च |
http://www.barodaart.com/Oleographs%20Mythology/PanchKanya-M(1).jpg 
पन्च-कन्या
सातों  माता  भी  नहीं, बचा  सकी  गर  पाँच |
रविकर  महिमा  पर  पड़े,  दैया  दुर्धर्ष  आँच |

6 comments:


  1. सातों माता भी नहीं, बचा सकी गर पाँच |
    रविकर महिमा पर पड़े, दैया दुर्धर्ष आँच |
    एक सामाजिक शूल बन चुकी समस्या पर त्रिशूल चलाया है आपने अब तो शिव को ही अपना तीसरा नेत्र खोल चंडी बनना होगा ,मूढ़धन्य भ्रूण -लख -पतियों को ठिकाने लगाना होगा .कृपया यहाँ भी पधारें -
    ram ram bhai
    बुधवार, 22 अगस्त 2012
    रीढ़ वाला आदमी कहलाइए बिना रीढ़ का नेशनल रोबोट नहीं .
    What Puts The Ache In Headache?

    ReplyDelete
  2. सामाजिक वैषम्य- रोज़ रचती है, ये कुरीत ,
    .कृपया यहाँ भी पधारें -
    ram ram bhai
    बुधवार, 22 अगस्त 2012
    रीढ़ वाला आदमी कहलाइए बिना रीढ़ का नेशनल रोबोट नहीं .
    What Puts The Ache In Headache?

    ReplyDelete
  3. समाज के ऊपर कलंक ही तो है | हमें आगे आना होगा |

    ReplyDelete
  4. कोई तो रक्षा करो, माताओं से एक |
    भ्रूणध्नी माता-पिता, देते मुझको फेंक ..

    दर्द को दोहों में उतारा है ... ये कलंक कब मिटेगा ...

    ReplyDelete
  5. effective post
    when we will change ?

    ReplyDelete
  6. इतनी सारी देवियों को मानते हुये भी कन्या की यह दुर्दशा .... अफसोसजनक

    ReplyDelete