Follow by Email

Friday, 17 August 2012

दिखा राष्ट्रपति भवन में, इसी मर्तबा भेंग-

रहे भाजपा रंज में, अडवानी को ठेंग ।
दिखा राष्ट्रपति भवन में, इसी मर्तबा भेंग ।

इसी मर्तबा भेंग, घटा हामिद के घर भी ।
रहे सब जगह रेंग, विपक्षी सारे सर भी ।

बैठे पहली पंक्ति, जिताया जिन लोगों ने ।
हाय स्वतंत्रता पर्व, मनाया कुल ढोंगो ने  ।।

3 comments:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (18-08-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुति!...

    ReplyDelete
  3. शायद इसे ही आजादी कहते हैं
    बहुत खूब!

    ReplyDelete