Follow by Email

Sunday, 4 March 2012

जब मुँह पर फूल बसन्त --

बुरा न मानो होली है --
मूँग दले होरा भुने, उरद उरसिला कूट ।
पापड बेले अनवरत, खाय दूसरा लूट ।।
http://1.bp.blogspot.com/-hxd-brxQyGk/TX4HoeMrb9I/AAAAAAAAADU/6P2I0pAZhJ0/s1600/100_4500.JPG
मालपुआ गुझिया मिली, मजेदार मधु स्वादु ।
स्वादु-धन्वा मन विकल, गुझरौटी कर जादु ।।
मन के लड्डू मन रहे,  लाल-पेर हो जाय ।
रंग बदलती आशिकी, झूठ सफ़ेद बनाय ।
भाँग खाय बौराय के,  खेलें सन्त-महन्त ।
नशा उतरते ही खिला, मुँह पर फूल बसन्त ।।
Rangoli design with diya in centre
होरा = चना का झाड़
उरसिला = चौड़ी छाती 
गुझिया = एक प्रकार की मिठाई 
गुझरौटी= नाभि के पास का भाग 
स्वादु-धन्वा = कामदेव
जब मुँह पर खिला बसन्त = डर जाना 

यह  भी  देखिये  

ताकें गोरी छोरियां--

 दोहे 
शिशिर जाय सिहराय के, आये कन्त बसन्त ।
अंग-अंग घूमे विकल, सेवक स्वामी सन्त ।

4 comments:

  1. वाह, होली चढ़ी हुयी है..

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    होली की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  3. होली के सारे रंग मौजूद हैं यहां। बस चंद घंटे और,फिर हम भी इन सबके बीच ही होंगे।

    ReplyDelete