Follow by Email

Monday, 22 July 2013

गोबर है घुडसाल में, गौशाला में लीद-

नाजायज सरकार से, क्या जायज उम्मीद |
गोबर है घुडसाल में, गौशाला में लीद |

गौशाला में लीद,  ईद इनके घर होती -
इत बारिस घनघोर, गाँव के गाँव डुबोती |

चल खा मिड-डे मील, वक्त का यही तकाजा |
बुला आदमी चार, यार का उठे जनाजा ||

10 comments:

  1. नाजायज सरकार से, क्या जायज उम्मीद |
    गोबर है घुडसाल में, गौशाला में लीद |

    Wah-wah-wah-wah.....Bahut badhiya Ravikar ji !

    ReplyDelete

  2. ापने लिखा... हमने पढ़ा... और भी पढ़ें...इस लिये आपकी इस प्रविष्टी का लिंक 26-07-2013 यानी आने वाले शुकरवार की नई पुरानी हलचल पर भी है...
    आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाएं तथा इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और नयी पुरानी हलचल को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी हलचल में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान और रचनाकारोम का मनोबल बढ़ाएगी...
    मिलते हैं फिर शुकरवार को आप की इस रचना के साथ।



    जय हिंद जय भारत...


    मन का मंथन... मेरे विचारों कादर्पण...


    ReplyDelete
  3. और उम्मीद भी क्या हो सकती है इस तंत्र से ...

    ReplyDelete
  4. सही कहा है आदरणीय !!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति है
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/

    ReplyDelete
  6. घुड़साल में करते गोबर और गौशाला में लीद ,,

    नित होती रहती इनकी भी खूब मट्टी पलीद .

    ॐ शान्ति

    ReplyDelete
  7. सुन्दर प्रस्तुति ....!!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (24-07-2013) को में” “चर्चा मंच-अंकः1316” (गौशाला में लीद) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  8. होगी भैया १४ में मिटटी खूब पलीद .

    ReplyDelete
  9. नाजायज सरकार से, क्या जायज उम्मीद ?
    शुरुआत ही भ्रष्ट है !

    ReplyDelete