Follow by Email

Sunday, 14 July 2013

पर परिवर्तन नहीं सुहाए-

नकारात्मक ग्रोथ से, होवे बेडा गर्क ।
सकल घरेलू मस्तियाँ, इन्हें पड़े नहिं फर्क-
आम जिंदगी नर्क बनाए  ।
पर परिवर्तन नहीं सुहाए ॥

रोटी थाली की छीने, चाहे रोजी जाय ।
छद्म धर्म निरपेक्षता, मौला ना मन भाय -
फिर भी फिर सरकार बनाये ।
पर  परिवर्तन नहीं सुहाए ॥ 

पाक बांग्लादेश से, दुश्मन की घुसपैठ ।
सीमा में घुस चाइना, रहा रोज ही ऐंठ -
अन्दर वह सीमा सरकाए ।
पर  परिवर्तन नहीं सुहाए ॥  

चला रसातल रूपिया, डालर रहा  डकार ।
बनता युवा अधेड़ सा, बहुरुपिया सरकार-
घूमे दाढ़ी बाल रंगाये ।
पर परिवर्तन नहीं सुहाए ॥ 

आय आपदा हादसा, दशा सुधर नहिं पाय ।
बाढ़े मौका पाय के, अफसर नेता आय -
सड़ी लाश का कफ़न नुचाये-
पर  परिवर्तन नहीं सुहाए ॥

चंगुल में जिनके फंसा, वह बिरयानी खाय ।
उसको खाता देख कर, पब्लिक ये पगुराय-
सोच वहीँ गिरवी धर आये ।
पर  परिवर्तन नहीं सुहाए ॥ 
  

6 comments:

  1. चला रसातल रूपिया, डालर रहा डकार ।
    बनता युवा अधेड़ सा, बहुरुपिया सरकार-
    सुन्दर ........!!

    ReplyDelete

  2. सुंदर प्रस्तुति...
    मुझे आप को सुचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी का लिंक 19-07-2013 यानी आने वाले शुकरवार की नई पुरानी हलचल पर भी है...
    आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाएं तथा इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और नयी पुरानी हलचल को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी हलचल में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान और रचनाकारोम का मनोबल बढ़ाएगी...
    मिलते हैं फिर शुकरवार को आप की इस रचना के साथ।



    जय हिंद जय भारत...


    मन का मंथन... मेरे विचारों कादर्पण...


    यही तोसंसार है...

    ReplyDelete
  3. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार१६ /७ /१३ को चर्चामंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां स्वागत है

    ReplyDelete

  4. पाक बांग्लादेश से, दुश्मन की घुसपैठ ।
    सीमा में घुस चाइना, रहा रोज ही ऐंठ -
    अन्दर वह सीमा सरकाए ।
    पर परिवर्तन नहीं सुहाए ॥

    अजी भाई साहब देश कोई सीमा से चलता ही ?देश चलता है वोट से हम खाद्य सुरक्षा दे रहें हैं आपको और क्या पप्पू की जान लोगे .

    ReplyDelete
  5. चला रसातल रूपिया, डालर रहा डकार ।
    बनता युवा अधेड़ सा, बहुरुपिया सरकार-
    घूमे दाढ़ी बाल रंगाये ।
    पर परिवर्तन नहीं सुहाए ॥

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति !
    latest post सुख -दुःख

    ReplyDelete
  6. कमाल का शब्द संयोजन......अद्भुत कटाक्ष .....वाह

    ReplyDelete