Follow by Email

Tuesday, 2 July 2013

उत्थानों की बात, करोगे कब रे थानों-

थानों में हैं मुर्गियां, हवालात में लात |
हवा लात खा पी करें, अण्डों की बरसात |

अण्डों की बरसात, नहीं तो डंडे बरसें |
बरसों से यह खेल, झेलती पब्लिक डरसे |

भोगे नक्सलवाद, देश मानों ना मानो |
उत्थानों की बात, करोगे कब रे थानों ||

6 comments:

  1. सही चित्रण,...आज के हालात का!

    ReplyDelete
  2. थाने दड़बे बन गये , मुर्गी थानेदार, कह रविकर कविराय सुनो तुम, जनता झेले डंडे की मर ,जोरदार

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बुधवार (03-07-2013) को बुधवारीय चर्चा --- १२९५ ....... जीवन के भिन्न भिन्न रूप ..... तुझ पर ही वारेंगे हम ....में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  4. अभी और झेलेंगे भाई ...

    ReplyDelete
  5. कटु सत्य...

    ReplyDelete
  6. बंद है थाने में मुर्गी और थाना बंद है , जुर्म में थाने का दरोगा जेल में बंद है ,सुन्दर

    ReplyDelete