Follow by Email

Tuesday, 23 July 2013

रहे सुशासन मौन अब, मनमोहन से डील

तालीमी हालात हों, या हो मिड डे मील 
रहे सुशासन मौन अब, मनमोहन से डील 

मनमोहन से डील, पैर में चोट लगाईं 
स्वयं कुल्हाड़ी मार, मौन हो जाता भाई 

लगा गया आरोप, विपक्षी को दे गाली 
खुद की गलती तोप, बजाये सी एम् ताली

3 comments:

  1. नेता तो बस आपस में ही आरोप - प्रत्यारोप लगा बच जाएंगे ....पर उन अभिवावकों का क्या जिन्होने अपने बच्चों को खो दिया है ।

    ReplyDelete
  2. लगा गया आरोप, विपक्षी को दे गाली
    खुद की गलती तोप, बजाये सी एम् ताली-खुद गलती करो विपक्ष पर आरोप मढो

    ReplyDelete
  3. बेहद दुखद..

    ReplyDelete