Follow by Email

Monday, 1 July 2013

विपत-प्रबंधन ढील, बहे घर-ग्राम-कबीला-

थोथी-थूल दलील दे, भाँजे लापरवाह |
लीला लाखों जिंदगी, कातिल है नरनाह |

कातिल है नरनाह, दिखाए दुर्गति-लीला |
विपत-प्रबंधन ढील, बहे घर-ग्राम-कबीला |

धरे हाथ पर हाथ, मजे में बाँचे पोथी |
छी छी सत्ता स्वार्थ, थुड़ी थू थोथा-थोथी ||

6 comments:

  1. बहुत सुंदर, क्या बात


    उत्तराखंड त्रासदी : TVस्टेशन ब्लाग पर जरूर पढ़िए " जल समाधि दो ऐसे मुख्यमंत्री को"
    http://tvstationlive.blogspot.in/2013/07/blog-post_1.html?showComment=1372748900818#c4686152787921745134

    ReplyDelete
  2. कातिल है नरनाह, दिखाए दुर्गति-लीला |
    विपत-प्रबंधन ढील, बहे घर-ग्राम-कबीला |

    धरे हाथ पर हाथ, मजे में बाँचे पोथी |
    छी छी सत्ता स्वार्थ, थुड़ी थू थोथा-थोथी ||
    बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  3. एकदम खरी बात...

    ReplyDelete