Follow by Email

Wednesday, 2 January 2013

लम्पट सत्तासीन, कमीशन खोर विधाता-रविकर

करदाता के खून को, ले निचोड़ खूंखार | 
 रविकर बन्दर-बाँट से, होता दर्द अपार |

होता दर्द अपार, बड़े कर के कर चोरी |
भोगें धन-ऐश्वर्य, खींचते सत्ता डोरी |

लम्पट सत्तासीन, कमीशन खोर विधाता |
जीना है दुश्वार, मरे सच्चा करदाता ||
Photo0093.jpg

3 comments:

  1. होता दर्द अपार, बड़े कर के कर चोरी |
    भोगें धन-ऐश्वर्य, खींचते सत्ता डोरी |
    कोई शक की गुंजाइश नहीं !

    ReplyDelete
  2. लम्पट सत्तासीन, कमीशन खोर विधाता |
    जीना है दुश्वार, मरे सच्चा करदाता ||

    बहुत सही....
    यथार्थवादी पंक्तियां.....

    ReplyDelete