Follow by Email

Thursday, 30 June 2016

अश्लील दोष

काव्य में किन परिस्थितयों में अश्लील दोष भी गुण हो जाता है.और वह शृंगार 'रस' के घर में न जाकर 'रसाभास' की दीवारें लांघता हुआ दिखायी देता है.
(1)
स्वर्ण-शिखा सी सज-संवर, मानहुँ बढ़ती आग ।
छद्म-रूप मोहित करे, कन्या-नाग सुभाग ।
कन्या-नाग सुभाग, हिस्स रति का रमझोला ।
झूले रमण दिमाग, भूल के बम-बम भोला ।
नाग रहा वह जाग, ज़रा सी आई खांसी ।
गया काम फिर भाग, ताक के स्वर्ण-शिखा सी ।।
(2)
नींद नाग की भंग हो, हिस्स-फिस्स सम शोर।
भंग नशे में शिव दिखे, जगा काम का चोर ।
जगा काम का चोर, बदन दनदना मरोड़े।
सरक गया पट खोल, शिवा की तन्द्रा तोड़े ।
संभोगी आनीत, नीत में कमी राग की ।
आसिक्तत आसक्त, टूटती नींद नाग की ।।
(3)
मांसाहारी मन-मचा, मदन मना महमंत।
पाऊं-खाऊं छोड़ दूँ, शंका जन्म अनंत ।
शंका जन्म अनंत, फटाफट पट पर पैनी ।
नजर चीरती चंट, सहे यह मन बेचैनी ।
चला मारने दन्त, मगर जागा व्यभिचारी ।
फिर जीवन-पर्यंत, चूमता मांसाहारी ।।
(4)
प्रेमालापी नायिका, चाट जाय सब धात ।
खनिज-मनुज घट-मिट रहे, नष्ट प्रपात प्रभात ।
नष्ट प्रपात प्रभात, शांत मनसा ना होवे ।
असमय रही नहात, दुपहरी पूरी सोवे ।
चंचु चोप चिपकाय, नहीं पिक हुई प्रलापी ।
चूतक ना बौराय, चैत्य-चर प्रेमालापी ।।
बहुत बेहतरीन सार्थक जानकारी देती प्रस्तुति,RECENT POST ,,,,,पर याद छोड़ जायेगें,,,,,
MANOJIOFS.BLOGSPOT.COM|मनोज कुमार द्वारा

Tuesday, 28 June 2016

बाढ़ की विभीषिका -

खानापूरी हो चुकी, बेशर्मी भी झेंप । 
खेप गए नेता सकल, भेज  रसद की खेप। 

भेज रसद की खेप, अफसरों की बन आई । 
देखी भूख फरेब, डूब कर जान बचाई। 

पानी पी पी मौत, उठा दुनिया से दाना ।
बादल-दल को न्यौत, चले जाते मयखाना ॥

Wednesday, 1 June 2016

किन्तु नारि पे नारि, स्वयं ही पड़ती भारी-

नारी अब अबला नहीं, कहने लगा समाज । 
है घातक हथियार से, नारि सुशोभित आज ।

नारि सुशोभित आज, सुरक्षा करना जाने । 
रविकर पुरुष समाज, नहीं जाए उकसाने ।

किन्तु नारि पे नारि, स्वयं ही पड़ती भारी | 
पहली ढाती जुल्म, तड़पती दूजी नारी ।|