Follow by Email

Friday, 7 October 2016

बहू खोजता रोज, कुंवारा बैठा पोता

पोता जब पैदा हुआ, बजा नफीरी ढोल ।
नतिनी से नफरत दिखे, दिखी सोच में झोल।
दिखी सोच में झोल, परीक्षण पूर्ण कराया |
नहीं कांपता हाथ, पेट पापी गिरवाया ।
कह रविकर कविराय, बैठ के बाबा रोता |
बहू खोजता रोज, कुंवारा बैठा पोता ।।

2 comments:

  1. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल शनिवार (08-10-2016) के चर्चा मंच "जय जय हे जगदम्बे" (चर्चा अंक-2489) पर भी होगी!
    शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete