Follow by Email

Tuesday, 9 September 2014

तुर्क-युवक नादान, बंद कर पत्थरबाजी-

बाजीगर सैनिक डटे, मौत सामने ठाढ़ |
ग्राम नगर कश्मीर के, झेल रहे हैं बाढ़ |

झेल रहे हैं बाढ़, देश राहत पहुँचाया |
फौजी रहे बचाय, सामने जो भी आया |

फ़ौजी का सम्मान, करो रे मुल्ला-काजी |
तुर्क-युवक नादान, बंद कर पत्थरबाजी ||

7 comments:

  1. अतिसुन्दर भाव नादानों और सिरफिरों को संदेस देती रचना

    फ़ौजी का सम्मान, करो रे मुल्ला-काजी |
    तुर्क-युवक नादान, बंद कर पत्थरबाजी ||

    ReplyDelete
  2. इन बहादुर जाँबाज सैनिकों पर देश को गर्व है।
    सार्थक कुण्डलियाँ।
    आभार।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  4. बहादुर फौजियों को सलाम...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर सटीक सार्थक व्यंग्य .

    ReplyDelete