Follow by Email

Wednesday, 6 March 2013

निष्फल करना कठिन, दुर्जनों के मनसूबे -

मन सूबे से जिले से, जुड़े पंथ से लोग। 
गर्व करें निज जाति पर, दूजी पे अभियोग। 

दूजी पे अभियोग, बढ़ी जाती कट्टरता । 
रविकर सोच उदार, तभी तो पानी भरता । 

भारी पड़ते दुष्ट, देख सज्जन मन ऊबे । 
सफल निरंतर होंय, दुर्जनों के मनसूबे ॥ 


 गुर्गे-गुंडों में फँसी, फिर रजिया की जान |
जान बूझ कर जानवर, वर का कर नुक्सान |
वर का कर नुक्सान, झाड पर चढ़ा रखा है |
कह कह तुझे महान, स्वाद हर बार चखा है |
स्वार्थ कर रहे सिद्ध, पुन: कांग्रेसी मुर्गे |
नहीं जगत कल्याण, नहीं ये तेरे गुर्गे ||

7 comments:

  1. सरकारी अमला महफ़ूज़ न रहे तो आम आदमी ख़ुद को कैसे महफ़ूज़ महसूस करें ?

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  3. दुर्जनों के मनसूबे को तोड़ने की कोशिस तो करनी ही पडेगी गुरुदेव.सार्थक प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  4. जब सुरक्षित है नहीं इस मुल्क की सर्कार क्या सुरक्षा वो
    करेगी आम लोंगो की जिन्दगी की बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  5. कोई भी पार्टी हो सब का एक ही काम - स्वार्थसिद्धि. अच्छी रचना, बधाई.

    ReplyDelete
  6. वहा बहुत खूब बेहतरीन

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में

    तुम मुझ पर ऐतबार करो ।


    ReplyDelete
  7. लाजवाब रचना...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete