Follow by Email

Saturday, 16 March 2013

करवा करवा-ता रहा , बलमा दारूबाज

करवा करवा-ता रहा , बलमा दारूबाज |
दोनों किडनी फेल हैं, सत्यवान की आज |

सत्यवान की आज , सती सावित्री चिंतित |
लेकिन पति नाराज, सिकन चेहरे पर किंचित |

बेंच खेत खलिहान, दिया घरभर को मरवा |
पति को है विश्वास , बचा लेगा यह करवा - 

8 comments:

  1. बात कुछ समझ में आई नहीं !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय
      उत्तर भारत में करवा इक त्यौहार है जो पति की लम्बी उम्र के लिए रखा जाता है-
      दारुबाज को अपनी पत्नी के करवा चौथ व्रत पर बड़ा भरोसा है-
      सादर-

      Delete
  2. रविकर जी बड़े स्नेह से पढ़ता हूँ ,आप का मानकर
    कुण्डली का भी आया मज़ा ,करवा का अर्थ जानकार...

    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  3. आज की सावित्री शराबी सत्यवान को नहीं बचा पाती
    latest postऋण उतार!

    ReplyDelete
  4. बेहद दार्शनिक अंदाज़ में लक्ष्य भेदन

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब भाव पूर्ण प्रस्तुति

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    एक शाम तो उधार दो

    मेरे भी ब्लॉग का अनुसरण करे

    ReplyDelete
  6. करवा-करवा का यमक,दमक रहा है आज
    भभका दारू का मिले , यम होते नाराज
    यम होते नाराज , याचना खाली जाये
    उत्तम, दारू छोड़, दवा कुछ खा ली जाये
    खेत हुआ नीलाम, लुटे घर छानी - परवा
    अनहोनी ना टाल , सकोगे करवा करवा ||

    ReplyDelete
  7. करवा का असल मतलब जानना जरूरी है ... कर्म को पहचानना जरूरी है ...

    ReplyDelete