Follow by Email

Sunday, 16 October 2011

पब्लिक दी मरवाय

 बोले अकबर  देर तक,  बँटवारे  की  बात |
 व्याख्यान में खोल के,  नेहरु  का उत्पात  | 
नेहरु का उत्पात, सहा हर हिन्दुस्तानी  |
जिन्ना पर भी खूब,  चढ़ी थी सत्ता-रानी |
दोनों ये अंग्रेज,  बने जब सबके रहबर |
 पब्लिक दी मरवाय,  लड़ा के बोले अकबर |

3 comments:

  1. सवाल यह है कि अन्य नेतागण नेहरू से हारे क्यों? क्या अकेले नेहरू इतने ताकतवर थे?

    ReplyDelete
  2. अंग्रेज अनर्थ कर गये।

    ReplyDelete
  3. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच की जी रही है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete