Follow by Email

Saturday, 23 February 2013

जवानी धर्म से भटके, हुआ वह शर्तिया "भटकल"-

लगा ले मीडिया अटकल, बढ़े टी आर पी चैनल ।
 जरा आतंक फैलाओ, दिखाओ तो तनिक छल बल ।।

फटे बम लोग मर जाएँ, भुनायें चीख सारे दल ।
धमाके की खबर तो थी, कहे दिल्ली बताया कल ॥

 हुआ है खून सादा जब, नहीं कोई दिखे खटमल ।
घुटाले रोज हो जाते, मिले कोई नहीं जिंदल ।।

कहीं दोषी बचें ना छल, अगर सत्ता करे बल-बल ।
नहीं आश्वस्त हो जाना, नहीं होनी कहीं हलचल ॥ 

जवानी धर्म से भटके, हुआ वह शर्तिया "भटकल" ।
मरे जब लोग मेले में, उड़ाओ रेल मत नक्सल ॥ 




कल गुरू को मूँदा था, आज चेलों ने रूँदा है-
पिलपिलाया गूदा है ।
छी बड़ा बेहूदा  है । ।

मर रही पब्लिक तो क्या -
आँख दोनों मूँदा है ॥

जा कफ़न ले आ पुरकस
इक फिदाइन कूदा है ।

कल गुरू को मूँदा था
आज चेलों ने रूँदा है ॥

पाक में करता अनशन-
मुल्क भेजा फालूदा है ॥
 

6 comments:

  1. जवानी धर्म से भटके, हुआ वह शर्तिया "भटकल" ।
    मरे जब लोग मेले में, उड़ाओ रेल मत नक्सल ॥
    वहा बहुत खूब

    मेरी नई रचना

    महकती खुशबू

    प्रेमविरह

    ReplyDelete
  2. फटे बम लोग मर जाएँ, भुनायें चीख सारे दल ।
    धमाके की खबर तो थी,कहे दिल्ली बताया कल॥
    क्या खुब लिखा गुरुवार,बहुत ही सुन्दर.

    ReplyDelete
  3. खटमल तो हैं पर ये मसले कब जाएंगे, कोई जवाब नहीं

    ReplyDelete
  4. वाह क्या खूब ,जवानी धर्म से भटके, हुआ वह शर्तिया "भटकल" ।
    मरे जब लोग मेले में, उड़ाओ रेल मत नक्सल ॥

    ReplyDelete