Follow by Email

Tuesday, 5 February 2013

लेकिन पाकिस्तान, हिन्दु का करे कलेवा-



मेवा खा के पाक का, वाणी-कृष्णा-लाल |
ठोके कील शकील नित, वक्ता करे हलाल  |

वक्ता करे हलाल, कमाई की कमाल की |
मनमोहन ले पाल, ढाल यह शत्रु-चाल की |

लेकिन पाकिस्तान, हिन्दु का करे कलेवा |
खावो कम्बल ओढ़, मियाँ सेवा का मेवा ||
माया के वक्तव्य से, रही रियाया रोय ।
भाई का आनन्द भी, जाता तुरत विलोय ।
जाता तुरत विलोय, अरब-पति उसे बनाया ।
लेकिन ये क्या बात, नहीं उसपर अब साया ।
मैडम का इनकार, मुसीबत उसकी भारी ।
छापे को तैयार, कई धाकड़ अधिकारी ।।

7 comments:

  1. कौंग्रेस के ये सिपैसलार बस अपनी ही असलियत बताते है जनता को की ये किस दरजे के लोग है ! ये भूल जाते है की इनके पीएम भी पकिस्तान से सुपर पीएम इटली से और दादा बांग्लादेश से सत्ता के लालच में यहाँ आये !

    ReplyDelete
  2. हमारी निकम्मी सरकार तो कुछ करने से रही।

    ReplyDelete
  3. बढ़िया ढंग से टिपियाया है आपने!
    यह कहना गलत न होगा कि आपको पोस्टों से कच्चा माल तो मिल ही जाता है लिखने के लिए!

    ReplyDelete
  4. रविकर जी ,सटीक कुंडलिया.....

    ReplyDelete
  5. मेवा खा के पाक का, वाणी-कृष्णा-लाल |
    ठोके कील शकील नित, वक्ता करे हलाल |

    वक्ता करे हलाल, कमाई की कमाल की |
    मनमोहन ले पाल, ढाल यह शत्रु-चाल की |

    लेकिन पाकिस्तान, हिन्दु का करे कलेवा |
    खावो कम्बल ओढ़, मियाँ सेवा का मेवा ||

    लाजवाब लताड़
    Recent postअनुभूति : चाल ,चलन, चरित्र (दूसरा भाग )
    New post बिल पास हो गया

    ReplyDelete
  6. सुन्दर,"जैसे हो बीरो का बसंत ,वैसे ही है सुन्दर टिप तिपंत ,..."सरकारें तो प्राइवेट हैं,अपनी आलू अपने खेत हैं, हैं,........परिवार तंत्र का चक्रव्यूह , सरकारें प्रजातंत्र की
    ........कहने के लायक ही नहीं है

    ReplyDelete