Follow by Email

Monday, 18 July 2011

स्लीपर-सेल : घनाक्षरी

शक्ल  सूरत  एक  सी, हाथ  पैर  एक  जैसे
नाक  कान  आँख  मुंह, एक  से  दिखात हैं |

भीड़ - भाड़  हाट  चौक,  घर  द्वार  रेस्टोरेंट
आस   पास   सोये  पड़े,  बड़े   इफरात   हैं |

कठपुतली   बन  के ,  विभीषण  से  तनके 
यहाँ  वहाँ  चाहे  जहाँ , थैला   पहुँचात   हैं |

दस - बीस  मारकर,  भीड़  बीच  घुस  जात,
आतंकी  स्लीपर  सेल,  यही  तो   कहात  हैं ||


और अंत में एक दोहा,
उम्मीद का--

चर्चित चेहरे देश के, करते है उम्मीद |
आज मुहर्रम हो गई, कल होवेगी ईद ||


चिदंबरम उवाच !
 इकतिस महिना न हुआ, माँ मुम्बा विस्फोट |
 तीन  फटे  तेइस  मरे,  व्यर्थ  निकाले  खोट ||

 जनता  पूछे--
 जनता  पूछे देश  में, कितने महिने और |
गृह-मंत्री जी बोलिए, मिलिहै हमका ठौर ||


15 comments:

  1. आतंक! डरिए रविकर जी। डरिए। अब ब्लागों पर भी आ चुके हैं ये।

    ReplyDelete
  2. कहा बहुत सही,
    होता है यही।

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  4. आपकी प्रवि्ष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल उद्देश्य से दी जा रही है!

    ReplyDelete
  5. बहुत सटीक और सामयिक.

    ReplyDelete
  6. beautifully said
    excellent

    ReplyDelete
  7. रविकर जी बहुत अच्छी प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  8. गुप्ता जी व्यस्तता के वजह से कुछ दुरी थी ! आज समय कुछ मिला तो देखा और सभी पोस्ट को पढ़ा ! चर्चा मंच पर न जा सका क्यों की शुक्रवार को सिकंदारावाद चला गया था ! आज लौटा हूँ ! आप की रचनाये अजब और गजब सी होती है ! सभी से अलग और समसामयिक ! बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  9. ekdam samyik rachna......behad sahi chitran.

    ReplyDelete
  10. ये भी पा गए.....

    और आप छा गये गुरु.

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन दोहे। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  12. रविकर जी आपका लिखा नित नूतन और सुन्दर लगता है .इस मर्तबा पहले से भी ज्यादा सटीक मिसायल हैं ये दोहे -बूमरांग से वार करतें हैं अपने लक्ष्य पर .

    ReplyDelete