Follow by Email

Tuesday, 5 July 2011

ढूंढ़ दुलहिनी--

बूढ़  कुँवारा  गली-गली  की खाख छानता |
भूमि-अधिग्रहण  के 'भट्टे' से राख छानता ||

                        मिलने का विश्वास उसे  है,  इकदम पक्का |
                        बार - बार  'परसौली'  पूरे   पाख    छानता || 

पर  माया  की  माया  से  अनभिग्य  नहीं  वो |
प्रकृति-अंक से प्रति-दिन दर्शन सांख्य छानता 

                        बाबा - नाना   के   चरणों   की   बड़ी   महत्ता |
                        गठरी में रख ले 'रविकर' जो  शाख  छानता ||

किन्तु सियासत कही पड़े न  भारी  कुल पर |
ढूंढ़ दुलहिनी भटक रहा क्या *माख छानता ||     * अभिमान / अपने दोष को ढापना 
           
                        

7 comments:

  1. बहुत खूब कहा है ।

    ReplyDelete
  2. ravikar ji ,dinkar ji ,dinesh ji ,bahut achchhaa vyangy vinod .aaj transliteration thapp hai .

    ReplyDelete
  3. gupta ji bahut hi gahari baat . shaayad dulhiniyaa mil jaave !

    ReplyDelete
  4. कमाल का लिखते हैं आप। अफ़सोस है कि परिचय देर से हुआ।

    ReplyDelete