Follow by Email

Saturday, 9 July 2011

जन-जेब्रा की दु-लत्ती में बड़ा जोर है |

सत्ता-सर  के  घडियालों  यह  गाँठ बाँध लो,
जन-जेब्रा   की   दु-लत्ती   में   बड़ा  जोर है |

बदन  पे  उसके  हैं  तेरे  जुल्मों  की  पट्टी -
घास-फूस  पर  जीता  वो,  तू  मांसखोर है ||

तानाशाही    से    तेरे     है     तंग  " तीसरा"
जीव-जंतु-जग-जंगल-जल पर चले जोर है |

सोच-समझ कर फैलाना अब  अपना जबड़ा
तेरे  दर   पर    हुई   भयंकर  बड़-बटोर  है |

पद-प्रहार से    सुधरेगा   या   सिधरेगा   तू
प्राणान्तक  जुल्मों  से  व्याकुल  पोर-पोर है |

10 comments:

  1. जनता की पीड़ा को इस कविता ने निराले अंदाज में गाया है.

    ReplyDelete
  2. जन-जेब्रा की दु-लत्ती में बड़ा जोर है |

    ReplyDelete
  3. प्रिय ब्लोग्गर मित्रो
    प्रणाम,
    अब आपके लिये एक मोका है आप भेजिए अपनी कोई भी रचना जो जन्मदिन या दोस्ती पर लिखी गई हो! रचना आपकी स्वरचित होना अनिवार्य है! आपकी रचना मुझे 20 जुलाई तक मिल जानी चाहिए! इसके बाद आयी हुई रचना स्वीकार नहीं की जायेगी! आप अपनी रचना हमें "यूनिकोड" फांट में ही भेंजें! आप एक से अधिक रचना भी भेजें सकते हो! रचना के साथ आप चाहें तो अपनी फोटो, वेब लिंक(ब्लॉग लिंक), ई-मेल व नाम भी अपनी पोस्ट में लिख सकते है! प्रथम स्थान पर आने वाले रचनाकर को एक प्रमाण पत्र दिया जायेगा! रचना का चयन "स्मस हिन्दी ब्लॉग" द्वारा किया जायेगा! जो सभी को मान्य होगा!

    मेरे इस पते पर अपनी रचना भेजें sonuagra0009@gmail.com या आप मेरे ब्लॉग sms hindi मे टिप्पणि के रूप में भी अपनी रचना भेज सकते हो.

    हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई?

    नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है! मेरा ब्लॉग का लिंक्स दे रहा हूं!

    हेल्लो दोस्तों आगामी..

    ReplyDelete
  4. सत्ता -सर के घडियालों ये गांठ बाँध लो ,
    जन ज़िब्रा की दुलत्ती में बड़ा जोर है .
    फिर भी चला जाए है एक मंद मति बालक खरामा खरामा ,
    हाथसे कुछ नहीं हुआ पाद (पद यात्रा क्या कर लेगी ).

    ReplyDelete
  5. पद-प्रहार से सुधरेगा या सिधरेगा तू---सतर्क करती शब्द प्रहार ! बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  6. @ तानाशाही से तेरे है तंग "तीसरा"
    जीव-जंतु-जग-जंगल-जल पर चले जोर है
    पद-प्रहार से सुधरेगा या सिधरेगा तू
    प्राणान्तक जुल्मों से व्याकुल पोर-पोर है ||

    तानाशाह कहाँ सुधरते हैं, उन्हें तो सिधारना ही पडता है। सटीक रचना!

    ReplyDelete
  7. हर पाँच साल में असर दिखायी पड़ता है।

    ReplyDelete
  8. सोच-समझ कर फैलाना अब अपना जबड़ा
    beautifully written hope our politicians understand it

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  10. आप बिल्कुल अलग हट के लिखते हैं।

    ReplyDelete