Follow by Email

Saturday, 16 July 2011

कह विलास जी राव, वेंगसरकर क्या खाकर,

भड़ास   पर

बड़-पावर  है  शरद  का, कहाँ खिलाड़ी जोर
सबसे बड़ ये विश्व का, कृषक,खिलाड़ी, चोर |

कृषक,खिलाड़ी चोर, बोर्ड  का लेखा-जोखा,
करता  चोखा काम,  कहीं  न  होवे  धोखा  |

कह विलास जी राव, वेंगसरकर क्या खाकर,
करे मुकाबला मोर, विकेट अपना उडवाकर |

4 comments:

  1. क्या खाकर जीतेंगे।

    ReplyDelete
  2. फिर माफी चाहता हूँ। लेकिन पहले दोहे में चौदह मात्राएँ हैं और लय बिगड़ रहा है। गाने में गड़बड़।

    ReplyDelete
  3. अच्छा व्यंग्य कुंडलिया के माध्यम से। आभार।

    ReplyDelete
  4. "भाव को देख मात्रा न गिन ,ज़िन्दगी जी केलोरीज़ मत गिन ."
    बेहतरीन कटाक्ष राजनीति के गैंडे पर ,दुर्मुख पर .

    ReplyDelete