Follow by Email

Tuesday, 6 September 2011

अमर दोहे




 Sanjay Dutt, Manyata and Amar Singh
व्यर्थ  सिंह  मरने  गया,  झूठ  अमर  वरदान,
दस जनपथ कैलाश से, सिब-बल अंतरध्यान |
इतना  रुपया  किसने  दिया ? 
 
फुदक-फुदक के खुब किया, मारे कई सियार,
सोचा था खुश होयगा, जन - जंगल सरदार |
जिन्हें लाभ वे कहाँ ??


साम्यवाद के स्वप्न को, दिया बीच से चीर,
बिगड़ी घडी बनाय दी, पर बिगड़ी तदबीर  |
परमाणु समझौता 


अर्गल गर गल जाय तो, खुलते बन्द कपाट,
जब मालिक विपरीत हो, भले काम पर डांट |
हम तो डूबे, तम्हें भी ---

दुनिया  बड़ी  कठोर है , एक  मुलायम  आप,
परहित के  बदले  मिला,  दुर्वासा  सा  शाप |
मुलायम सा कोई नहीं 
 
खट    मुर्गा   मरता  रहे,  अंडा  खा   सरदार,
पांच साल कर भांगड़ा, जय-जय जय सरकार |
Mulayam Singh Yadav






13 comments:

  1. Bahut Sundar likha hai aapne ...
    dekhan me chote lagein, ghav karein gambheer.

    ReplyDelete
  2. आज फ़िर छा गये हो गुरु। बहुत ही अच्छे शब्द।

    ReplyDelete
  3. व्यर्थ सिंह मरने गया, झूठ अमर वरदान,
    दस जनपथ कैलाश से, सिब-बल अंतरध्यान |
    रविकर जी आपकी रचनात्मक ऊर्जा इसी तरह सलामत रहे .बहुत सुन्दर समायोजन दोहावली में राजनीति के प्रदूषण पर्व का .बधाई !

    राजनीति में प्रदूषण पर्व है ये पर्युषण पर्व नहीं .

    कबीरा खडा़ बाज़ार में

    ReplyDelete
  4. हाँ...हाँ...हाँ....मजे दार व्यंग और वह भी सच्ची ! बधाई !

    ReplyDelete
  5. आपके तीन-चार ब्लाग एक साथ देख डाले। गहरी अनुभूति के साथ रची गई रचनाओं में व्यंग्य की जो मार है काफी असरकारक है ।

    ReplyDelete
  6. दिनेश जी , मुग्ध करती हैं आपकी रचनाएँ।

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया!
    रविकर जी आपका जवाब नहीं!

    ReplyDelete
  8. बहुत बहुत सही.....

    ReplyDelete