Follow by Email

Thursday, 15 September 2011

सी एम् पद की दाल, गले न संघ नाव पर

 





संघ-नाव पर बैठकर, मोदी और बघेल |
सालों शाखा में गए,  खेले  संघी खेल |

खेले संघी खेल,  'कुरसिया'  लगे खेलने |
कांगरेस - पापड़ा , बघेला  बड़े  बेलने |

करत नजर-अंदाज, 'माम'  नाराज दाँव-पर |
सी एम्  पद की दाल, गले न संघ नाव पर ||

5 comments:

  1. वाह गुप्ताजी ये सी.एम् पोस्ट भी गजब होती है ! दिग्गी पि.एम्.की स्तुति में माँ वंदना में लगे है ! भला ख्वयिस कैसे पूरी हो !

    ReplyDelete
  2. सटीक बात ... अब तो उपवास उपवास खेल हो रहा है ..

    ReplyDelete
  3. ठीक ठाक पर मजेदार नहीं। शायद विषय ही ऐसा था।

    ReplyDelete
  4. राजनीति की घातें और प्रतिघातें।

    ReplyDelete
  5. रविकर जी ,हमारे आज के सन्दर्भ का अनुपम व्यंग्य .

    ReplyDelete