Follow by Email

Thursday, 24 May 2012

दस जन, पथ पर डोलते, करके ढीली डोर -

 
कठपुतली बन नाचते, मीरा मोहन-मोर |
दस जन, पथ पर डोलते, करके ढीली डोर ||

कौतुहल वश ताकता, बबलू मन हैरान |
*मुटरी में हैं क्या रखे, ये बौने इन्सान ??
*पोटली

बौने बौने *वटु बने, **पटु रानी अभिजात |
कौतुकता लख बाल की, भूप मंद मुस्कात ||
*बालक **चालाक

राजा रानी दूर के, राजपुताना आय |
चौखाने की शाल में, रानी मन लिपटाय ||

भूप उवाच-
कथ-री तू *कथरी सरिस, क्यूँ मानस में फ़ैल ?
चौखाने चौसठ लखत, मन शतरंजी मैल ||
*नागफनी / बिछौना

बबलू उवाच-
हमरा-हुलके बाल मन, कौतुक बेतुक जोड़ |
माया-मुटरी दे हमें, भाग दुशाला ओढ़ ||

12 comments:

  1. भाई 10 कहकर
    मजाक मत उड़ाओ
    कुछ आदमी बढा़ओ ।

    ReplyDelete
  2. चित्र को सही जबान दिया| रवि भैय्या बधाई

    ReplyDelete
  3. कठपुतली बन नाचते, मीरा मोहन-मोर |
    दस जन, पथ पर डोलते, करके ढीली डोर ||
    मरेगी इनकी नानी ,भरें ये सबका पानी .
    बढ़िया प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  4. भूप उवाच-
    कथ-री तू *कथरी सरिस, क्यूँ मानस में फ़ैल ?
    चौखाने चौसठ लखत, मन शतरंजी मैल |
    बहुत सुन्दर है भाई साहब .लाज़वाब शब्द संयोजन .

    ReplyDelete
  5. बहुत रोचक !

    ReplyDelete
  6. बड़ा ही अनमोल खजाना आप भर भर लाए
    मन को मेरे दोहे और पहेली दोनों ही भाए।

    ReplyDelete
  7. उत्तम लेखन आपका ............आया काफी पसंद
    इसलिये कर लिया रीडर के बक्से में बंद

    ReplyDelete
  8. बहुत ही अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. दस जनपथ वाले नाचते कम नचाते ज्यादा है ..
    बहुत बढ़िया ..

    ReplyDelete