Follow by Email

Sunday, 5 June 2011

अनशन पर बैठे मेरे प्यारे साथियों---

पी एम को सबसे प्यारा बस |
है टालमटोल सहारा बस |
                             चाक़ू  को  चाक़ू  कहते  हैं |
                             चमचे  को  चमचा कहते  हैं |
                              साथ  सत्य   के  रहते  हैं |
                              सुख दुःख सब मिलकर सहते हैं
                              धारा के संग, न बहते हैं--
                               इतना ही दोष हमारा बस --- 
                            पी एम को सबसे प्यारा बस |
                              है टालमटोल सहारा बस ||
अपनी झपकी से सावधान |
गीदड़ भभकी से सावधान |
उस चमगीदड़ से सावधान |
चमचा गीदड़ से सावधान ||
कौओं के सम्मुख जाता यह  |
पक्षी की जात बताता है |
जब अपने पंख हिलाता यह  |
तब दूध - मलाई   पाता  है --
ढीला कर देता नारा बस -----
पी एम को सबसे प्यारा बस |
है टालमटोल सहारा बस |
                      यह पास हमारे आएगा   |
                      हीं-हीं कर दाँत दिखाएगा |
                      सँगी-साथी कहलायेगा |
                      गलबहियाँ डाल दिखाएगा |
                      नारा दमदार लगाएगा 
                      अपनी औकात बतायेगा--
                      जब चले न कोई चारा बस-----
                     पी एम को सबसे प्यारा बस |
                      है टालमटोल सहारा बस |
                  
                      

No comments:

Post a Comment