Follow by Email

Sunday, 15 April 2012

संजय भास्कर जी की शुभ रात्रि के सुभाषित पर--

 अपने बारे में अगर, खुद ही सोचें राम ।
बेढब दुनिया क्या करे, मुँह ढांपे आराम । 

मुँह ढांपे आराम, काम बढ़िया कर जाओ ।
रोया था तू आय, जाय के इन्हें रुलाओ ।

कर मानव-कल्याण, पूर कर पावन सपने ।
छोडो देना ध्यान, भटक ना जाओ अपने ।।

9 comments:

  1. बहुत बढ़िया ..................

    ReplyDelete
  2. कर मानव-कल्याण, पूर कर पावन सपने ।
    छोडो देना ध्यान, भटक ना जाओ अपने ..sahi bat.

    ReplyDelete
  3. सपनों में अपने, अपनों के सपने या सबके सपने अपने।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर दोहे....

    ReplyDelete
  5. भाई इसका तो जवाब नहीं है!

    ReplyDelete
  6. अपने बारे में अगर, खुद ही सोचें राम ।
    बेढब दुनिया क्या करे, मुँह ढांपे आराम ।

    ...वाह, वाह!...क्या खूब्ब कही!

    ReplyDelete
  7. आज की हिंसा की दुनिया में ,एक तो मिला अहिंसावादी
    सब प्यार से पुकारे उसको नाम है जिसका रविकर फैजाबादी....:-)
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete