Follow by Email

Sunday, 22 April 2012

खम्भें दरकें तीन, बोझ चौथे पर भारी-

खबर खभरना बन्द कर, ना कर खरभर मित्र ।
खरी खरी ख़बरें खुलें, मत कर चित्र-विचित्र ।

मत कर चित्र-विचित्र, समझ ले जिम्मेदारी ।
खम्भें दरकें तीन, बोझ चौथे पर भारी ।

सकारात्मक असर, पड़े दुनिया पर वरना ।
तुझपर सारा दोष,  करे जो खबर खभरना ।।
खबर खभरना  = मिलावटी खबर  

रविकर की रसीली जलेबियाँ

"कुछ कहना है"

दिनेश की टिप्पणी - आपका लिंक

11 comments:

  1. कोमल भाव,समीचीन सुन्दर कत्थ्य बधाईयाँ जी /

    ReplyDelete
  2. खब,र खबर रहे खभरना न बने । चौथे खंबे के हर सदस्य की जिम्मेवारी है यह ।

    ReplyDelete
  3. बोझ बड़ा भारी आया रे।

    ReplyDelete
  4. बढ़िया रचना!
    पृथ्वी दिवस की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  5. kin shabdo me tarif karoon....shabd jo kam pad gaye

    ReplyDelete
  6. अतिसुन्दर और चुटीली !

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  8. अनुप्रास की छटा देखते बनती है।

    ReplyDelete
  9. मत कर चित्र-विचित्र, समझ ले जिम्मेदारी ।
    खम्भें दरकें तीन, बोझ चौथे पर भारी ।भाई साहब सभी आंचलिक शदों के अर्थ दिया कीजे ,पोस्ट और उपयोगी होगी .मसलन 'खरभर 'और 'खबरना '
    कृपया यहाँ भी नजर डालें -
    टी वी विज्ञापनों का माया जाल और पीने की ललक
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/2012/04/blog-post_6907.html

    कोणार्क सम्पूर्ण चिकित्सा तंत्र -- भाग चार .

    शुक्रिया आपकी द्रुत और उत्साहवर्धक टिप्पणियों का .

    ReplyDelete
  10. वाह क्या बात है बहुत बढिया

    ReplyDelete
  11. रवि जी
    इशारे से दायित्व निर्वहन समझाने के लिए इन दोहों की जितनी प्रशंसा की जाये उतनी कम.
    घुमते इस काल चक्र से

    ReplyDelete