Follow by Email

Monday, 9 September 2013

रचना उसे नकार, बघारे हर पल शेखी-

निर्माता के प्रति दिखे, अब निर्मम व्यवहार |
हृष्ट-पुष्ट होकर बढ़े, रचना उसे नकार |

रचना उसे नकार, बघारे हर पल शेखी |
पाय ममत्व-दुलार, करे उसकी अनदेखी |

मद में मानव चूर, आपदा पर हकलाता |
हो जाता मजबूर, याद आये निर्माता ||

4 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. हिंदी लेखक मंच पर आप को सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपके लिए यह हिंदी लेखक मंच तैयार है। हम आपका सह्य दिल से स्वागत करते है। कृपया आप भी पधारें, आपका योगदान हमारे लिए "अमोल" होगा |
    मैं रह गया अकेला ..... - हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल - अंकः003

    ReplyDelete

  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    latest post: यादें

    ReplyDelete
  3. क्या खूब ……सुन्दर

    ReplyDelete
  4. मद में मानव चूर, आपदा पर हकलाता |
    हो जाता मजबूर, याद आये निर्माता ||
    प्रिय ..रविकर जी खूबसूरत ..काश ये सीख दिमाग में घुसे सबके तो आनंद और आये
    भ्रमर ५

    ReplyDelete