Follow by Email

Sunday, 29 September 2013

प्रभु दे मारक शक्ति,, नारि क्यूँ सदा कराहे -

हे अबलाबल भगवती, त्रसित नारि-संसार। 
सृजन संग संहार बल, देकर कर उपकार। 

देकर कर उपकार, निरंकुश दुष्ट हो रहे । 
करते अत्याचार,  नोच लें श्वान बौरहे। 

समझ भोग की वस्तु, लूट लें  घर चौराहे । 
प्रभु दे मारक शक्ति, नारि क्यूँ सदा कराहे ॥ 

2 comments:

  1. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १/१० /१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चामंच पर की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete