Follow by Email

Tuesday, 24 September 2013

सत्तइसा के पूत पर, पढ़ते मियाँ मिलाद-

टोपी बुर्के कीमती, सियासती उन्माद |
सत्तइसा के पूत पर, पढ़ते मियाँ मिलाद |

पढ़ते मियाँ मिलाद, तिजारत हो वोटों की |
ढूँढे टोटीदार, जरुरत कुछ लोटों की |

रविकर ऐसा देख, पार्टियां वो ही कोपी |
अब तक उल्लू सीध, करे पहना जो टोपी |

7 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (26-09-2013) को "ब्लॉग प्रसारण : अंक 128" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  2. चुनावी मौसम में ऐसा ही होता है

    ReplyDelete
  3. पढ़ते मियाँ मिलाद, तिजारत हो वोटों की |
    ढूँढे टोटीदार, जरुरत कुछ लोटों की |

    बहुत खूब .

    ReplyDelete
  4. सुन्दर अभिव्यक्ति .खुबसूरत रचना
    सादर मदन

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति !!

    ReplyDelete