Follow by Email

Thursday, 20 September 2012

लगा चून, परचून, मारता डंडी रविकर -

पासन्गे से परेशां, तौले भाजी पाव ।
इक छटाक लेता चुरा, फिर भी नहीं अघाव ।

फिर भी नहीं अघाव, मिलावट करती मण्डी  ।
लगा चून, परचून, मारता रविकर डंडी

 कर के भारत बंद, भगा परदेशी नंगे ।
लेते सारे पक्ष, हटा अब तो पासन्गे ।।

3 comments:

  1. बहुत बढ़िया व्यंगात्मक सामयिक कुंडली बधाई रविकर भाई

    ReplyDelete
  2. नदार व्यंग्य ,वर्तमान परिवेश में सजी पोस्ट ,बधाई

    ReplyDelete
  3. वर्तमान परिवेश पर बेहद सटीक चुटीली ब्यंगात्मक कुंडली ...हार्दिक बधाईयां रविकर जी

    ReplyDelete