Follow by Email

Tuesday, 17 July 2012

जला श्मशान में आशिक, खड़े खुश हाथ वो सेंके-


रही थी दोस्ती उनसे, गुजारे थे हंसीं-लम्हे
उन्हें हरदम बुरा लगता, कभी जो रास्ता छेंके ||

सदा निर्द्वंद घूमें वे, खुला था आसमां सर पर
धरा पर पैर न पड़ते, मिले आखिर छुरा लेके ||

मुहब्बत को सितम समझे, जरा गंतव्य जो पूंछा-

 गंवारा यह नहीं उनको, गए मुक्ती मुझे देके ।।

बसे हर रोम में मेरे, मुकम्मल चित्र  जो ढूंढें -
जुबाँ काटे गला काटे, कलेजा काट कर फेंके |।

उड़ें अब मस्त हो हो कर, निकलता  रोज का काँटा-
जला श्मशान में आशिक, खड़े खुश हाथ वो सेंके ||

11 comments:

  1. वाह रविकर जी एक अलग सी रचना बहुत शानदार प्रवाह युक्त बहुत पसंद आई

    ReplyDelete
  2. सही कहा आपने ,बहुत सुंदर, बधाई......

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति बधाई.

    ReplyDelete
  4. ये माशूक है न आशिक है ,

    सिरे के हैं ये कातिल ..

    ReplyDelete
  5. इस रचना का टोन ही अलग है.शानदार !

    ReplyDelete
  6. आज आशिकी ले कर आये हैं
    लगा खूबसूरत बनाये हैं
    रुलाने के लिये क्या कर दिया
    आशिक को ही जलाये हैं !!

    ReplyDelete
  7. उड़ें अब मस्त हो हो कर, निकलता रोज का काँटा-
    जला श्मशान में आशिक, खड़े खुश हाथ वो सेंके ||

    क्या लिखा है आपने ..... जबरदस्त !

    क़त्ल करके मेरा
    'वो' मुस्कुराते हैं
    बताओ जरा
    ऐसे कातिल
    कब सजा पाते हैं

    ReplyDelete
  8. बहुत ही गहरापन उतरा है शब्दों में।

    ReplyDelete
  9. ...कैसे कैसे लोगों से भरी पडी है यह दुनिया!

    ReplyDelete
  10. यही हश्र मोक्ष है बंधु-मस्त रहिये !

    ReplyDelete