Follow by Email

Wednesday, 14 November 2012

दीदा दो दो लिए, किन्तु कंकड़ नहिं दीखा-


चीखा चावल चना ज्यों, चीखा जोर लगाय |
पत्नी घबराई नहीं, खड़ी खड़ी मुसकाय |

खड़ी खड़ी मुसकाय, कहे है ना डिश धांसू |
रहा दर्द से रोय, दिखें नहिं रविकर आंसू |

दीदा दो दो लिए, किन्तु कंकड़ नहिं दीखा  |
दे बत्तीसी तोड़, कहे यूँ क्योंकर चीखा || 

11 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ
    (¯*•๑۩۞۩:♥♥ :|| गोवर्धन पूजा (अन्नकूट) की हार्दिक शुभकामनायें || ♥♥ :۩۞۩๑•*¯)
    ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ

    ReplyDelete
  2. वाह! बहुत सुंदर...

    ReplyDelete
  3. अलंकार युक्त बहुत सुंदर प्रस्तुति |

    ReplyDelete
  4. हो सकता है नीचे दी गई लिंक पर जा कर समस्या का कोई समाधान मिल जाय -
    http://lambikavitayen5.blogspot.com/2010/03/blog-post.html

    ReplyDelete
    Replies
    1. लालित्यम

      पत्नी का पल्ला

      http://lambikavitayen5.blogspot.in/
      व्यंगकार का खुब चले, कहते लोग दिमाग |
      प्लाट ढूँढ़ ना पा रहा, चला गया या भाग |
      चला गया या भाग, फैसला कर लो पहले |
      घरे बोलती बंद, पड़े नहले पे दहले |
      दहले मोर करेज, यहाँ तो मन की बक लूँ |
      कंकड़ लेता निगल, कहाँ फिर जाकर उगलूं ??

      Delete
  5. सुंदर प्रस्तुति | दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये आपको और आपके समस्त पारिवारिक जनो को !

    ReplyDelete
  6. अत्यंत सुन्दर प्रस्तुति ....दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएं !!!

    ReplyDelete
  7. आनुप्रासिक छटा बिखेरती अप्रतिम रचना रविकर भाई की .आभार हमें चर्चा में लाने के लिए .

    ReplyDelete
  8. सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. दीदा दो दो लिए, किन्तु कंकड़ नहिं दीखा |
    दे बत्तीसी तोड़, कहे यूँ क्योंकर चीखा ||

    सरजी !क्या बात !क्या बात !क्या बात !

    ReplyDelete
  10. चर्चा मंच में बिठाने के लिए आभार ,नेहा ,प्यार ,

    रूप तेरा साकार ,लेता एक आकार ,

    कुंडली तेरी जय जय .

    ReplyDelete