Follow by Email

Tuesday, 13 November 2012

डॉलर प्रति दिन चढ़े, हमारा गिरे रुपैया-


गिरे रुपैया गाँठ का, होवे नींद हराम ।
असर दीखता देह पर, बिगड़े  काम तमाम ।


बिगड़े काम तमाम, किन्तु देखो यह मस्ती ।
मस्ती मारें राम, जले  चाहे यह बस्ती ।


करे पार्टी डांस, विदेशी दौरे भैया ।
डॉलर प्रति दिन चढ़े, हमारा गिरे रुपैया ।।    

3 comments:

  1. दीवाली का पर्व है, सबको बाँटों प्यार।
    आतिशबाजी का नहीं, ये पावन त्यौहार।।
    लक्ष्मी और गणेश के, साथ शारदा होय।
    उनका दुनिया में कभी, बाल न बाँका होय।
    --
    ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ
    (¯*•๑۩۞۩:♥♥ :|| दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें || ♥♥ :۩۞۩๑•*¯)
    ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ

    ReplyDelete
  2. आजादी के वक्त यही एक रुपया एक अमेरिकी डालर के बराबर हुआ करता था। आज कितना पिछड गया है?

    ReplyDelete