Follow by Email

Thursday, 7 November 2013

चट्टे बट्टे एक, दाँव दे जाते झूठे-

झूठे *दो दो चोंच हों, दिखे चोंचलेबाज |
बाज कबूतर से लड़े, फिर भी नखरे नाज |
*कहासुनी 

फिर भी नखरे नाज, नहीं पंजे को अखरे |
जन का बहता रक्त, देख कर हँसे मसखरे |

है चुनाव कि रीति, दीखते रूठे रूठे |
चट्टे बट्टे एक, दाँव दे जाते झूठे ||

3 comments:

  1. उत्तम रचना सुन्दर भाव

    ReplyDelete