Follow by Email

Friday, 1 November 2013

हवा बदलने स्वर्ग, चले के पी सक्सेना-

Photo: लखनऊ से अट्हास पत्रिका के संपादक और चर्चित रचनाकार अनूप श्रीवास्तव ने दुखद समाचार दिया कि आज सुबह ७ बजे हिंदी व्यंग्य के सशक्त हस्ताक्षर के पी सक्सेना का स्वर्गवास हो गया। हिंदी व्यंग्य को विशाल पाठक वर्ग से जोड़ने एवं उसे लोकप्रिय विधा बनाने में के पी भाई का महत्वपूर्ण योगदान है ,


क्या फक्फेना फाहब, फ़ेंचुरी तो हो जाने देते - ब्लॉग 

बुलेटिन


सेनापति तुम हास्य के, व्यंग अंग प्रत्यंग |
लखनौवा तहजीब के, जीवित मल्ल- मलंग |

जीवित मल्ल- मलंग, अमीना हजरत बदले |
बदले बदले रंग, ढंग पर पश्चिम लद ले |

हुआ बड़ा बदलाव, नहीं अब ठेना देना |
हवा बदलने स्वर्ग, चले के पी सक्सेना ||

4 comments:

  1. विनम्र श्रद्धांजलि...

    ReplyDelete
  2. विनम्र श्रद्धांजलि.

    ReplyDelete
  3. श्रेष्ठ हास्य कवि को विनम्र हार्दिक श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
  4. विनम्र श्रद्धांजलि

    ReplyDelete