Follow by Email

Saturday, 9 November 2013

इक ठो काना पाय, बना दें राजा, अंधे-

अंधे बाँटे रेवड़ी, लगती हाथ बटेर |
अन्न-सुरक्षा काम भी, मनरेगा का फेर |

मनरेगा का फेर, काम बिन मिले कमीशन |
नगरी में अंधेर, किन्तु मन भावे शासन |

पाई अंधी अक्ल, बंद कर 'रविकर' धंधे |
इक ठो काना पाय, बना दें राजा, अंधे ||

10 comments:

  1. बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  2. सुन्दर. अति सुन्दर.

    ReplyDelete
  3. आ0 रविकर जी सुंदर कुंडलिया , बधाई आपको ।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर रविकर जी , बहुत ही आनंददायक

    ReplyDelete
  5. सुन्दर रविकर भाई .

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया रविकर जी !
    नई पोस्ट काम अधुरा है

    ReplyDelete
  7. मनरेगा का फेर, काम बिन मिले कमीशन |
    नगरी में अंधेर, किन्तु मन भावे शासन |
    bilkul sahi kaha !

    ReplyDelete