Follow by Email

Sunday, 14 October 2012

सुरभित सुमन सुगंध, संग में कंटक भेदन-




धारा वर विज्ञान का, किन्तु बना अभिशाप ।
यांत्रिकता बढती चली, भेद पुण्य को पाप ।  
भेद पुण्य को पाप, साफ़ गंगा खो जाती ।
कलुषित नर'दा रोर, नार'की भोग भुगाती । 
कामप्रेत के कर्म, करे नर से नर'दारा ।
चुड़ैल की अघ-देह,  बने खारा जलधारा ।

 पावन श्रम-कण लवणता, मीठा-पन सम स्नेह ।
यही दर्द क्वथनांक है, जलती थाली देह ।
जलती थाली देह , बना करुनामय चटनी ।
धी-घृत से हररोज, चूरमा बेकल-मखनी  ।
अरमानों की महक, ठगे-दिल का दे चूरन ।
पति पर गर कुछ खीस, पुत्र कर दे मन पावन ।।

गई किताबें हैं कहाँ, जाती झटका खाय ।
शादी उसकी क्या हुई, पुस्तक गईं लुटाय । 
पुस्तक गईं लुटाय, पुस्तकें  सखी सहेली ।
बचपन से हुलसाय, साथ इनके ही खेली ।
शादी ख़ुशी मनाय, दर्द यह कैसे दाबे ।
वापस दो लौटाय, जहाँ भी गई किताबें ।।


  शब्द निवेदन में यही, यही शब्द सन्देश |
कविता हो जाते अगर, बढ़ता भावावेश |
बढ़ता भावावेश, माध्यम अच्छा पाया ।
बसे दूर परदेश, पिया के पास पठाया । 
सुरभित सुमन सुगंध, संग में कंटक भेदन ।
शब्द भाव बिन व्यर्थ, बाँचिये शब्द निवेदन ।।


भाव सार्थक गीत के, आवश्यक सन्देश ।
खुद को सीमित मत करो, चिंतामय परिवेश ।
चिंतामय परिवेश, खोल ले मन की खिड़की ।
जो थोड़ा सा शेष,  सुनो उसकी यह झिड़की ।
पालो सेवा भाव, साध लो हित जो व्यापक ।
बगिया वृक्ष सहेज, तभी ये भाव सार्थक ।।

4 comments:

  1. शब्द निवेदन में यही, यही शब्द सन्देश |
    कविता हो जाते अगर, बढ़ता भावावेश |
    बढ़ता भावावेश, माध्यम अच्छा पाया ।
    बसे दूर परदेश, पिया के पास पठाया ।
    सुरभित सुमन सुगंध, संग में कंटक भेदन ।
    शब्द भाव बिन व्यर्थ, बाँचिये शब्द निवेदन ।।

    बहुत सुन्दर शब्द प्रयोग -शब्द भाव बिन व्यर्थ ,भावना इनपे भारी ...
    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    सोमवार, 15 अक्तूबर 20

    12
    भ्रष्टों की सरकार भजमन हरी हरी ., भली करें करतार भजमन हरी हरी .http://veerubhai1947.blogspot.com

    ReplyDelete